IPL के 12वें सीजन के लिए नीलामी जयपुर में हुई। इस बार नीलामी में कुल 351 खिलाड़ी शामिल थे, जिसमें से सिर्फ 60 खिलाड़ी ही बिके। इनमें 40 भारतीय और 20 विदेशी खिलाड़ी हैं। कई युवा खिलाड़ी इस बार भी नीलामी में उभरकर सामने आए।

तमिलनाडु के स्पिनर वरुण चक्रवर्ती को जहां किंग्स इलेवन पंजाब ने 8 करोड़ 40 लाख की भारी भरकम रकम में खरीदा तो युवा ऑलराउंडर शिवम दूबे को रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने 5 करोड़ में अपनी टीम में शमिल किया। वहीं पहले चरण में अनसोल्ड रहने के बाद दूसरे चरण में मुंबई इंडियंस ने युवराज सिंह को खरीदा।

वरुण चक्रवर्ती ने 17 साल की उम्र में क्रिकेट छोड़ दी थी और आर्किटेक की पढ़ाई करने लगे थे। उन्होंने कुछ समय तक नौकरी भी की लेकिन उसमें उनका दिल नहीं लगा। इसके बाद फिर उन्होंने क्रिकेट की दुनिया में कदम रखा और पीछे मुड़कर नहीं देखा। किंग्स इलेवन पंजाब में रविचंद्रन अश्विन और मुजीब उर रहमान जैसे दिग्गज गेंदबाज हैं, जिनसे वरुण को काफी कुछ सीखने का मौका मिलेगा।

वरुण के करियर की बात करें तो वो तमिलनाडु के स्पिन गेंदबाज है। उन्होंने 13 साल की उम्र में बतौर विकेटकीपर स्कूल में क्रिकेट की शुरुआत की लेकिन कॉलेज आकर उनका क्रिकेट से नाता टूट गया। लगभग तीन साल के आसपास, वरुण अब एक मिस्ट्री स्पिनर के रूप में नाम कमाने के बाद कुछ टीएनपीएल टीमों में शामिल हुए।

तमिलनाडु प्रीमियर लीग में वरुण ने 4.7 की चौंकाने वाले इकॉनमी में 9 विकेट लेते हुए सिचम मदुरै पैंथर्स को खिताब जीतने में अहम् योगदान दिया था, जिसके बाद वह लाइमलाइट में आए थे। पिछले साल तक, वह सिर्फ चौथे डिवीजन खिलाड़ी थे और अब, वह हाल ही में संपन्न हुई विजय हजारे ट्रॉफी के दूसरे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले खिलाड़ी हैं और उन्होंने रणजी ट्रॉफी में भी डेब्यू किया हैं।

वरुण चक्रवर्ती के अगर आंकड़ों पर नजर डाला जाए तो तमिलनाडु प्रीमियर लीग में उन्होंने 4.7 की बेहद शानदार इकॉनमी रेट से 9 विकेट चटकाए थे। इस दौरान उनका सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी प्रदर्शन 16 रन देकर 3 विकेट रहा। इसके अलावा विजय हजारे ट्रॉफी के इस सीजन की अगर बात करें तो उन्होंने 16.68 की औसत से 22 विकेट लिए थे। 38 रन देकर 5 विकेट उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.