पुराने राजग को आकार लेते देख रही पार्टी, काले धन के मुद्दे पर खुद भी लेगी श्रेय

नई दिल्ली : बाबा रामदेव ने देश की प्रमुख विपक्षी पार्टी भाजपा को एक नै उम्मीद दिखा दी है. 2014 लोकसभा चुनाव में भी सत्ता से बाहर रहने की शीर्ष नेता लालकृष्ण आडवाणी की ‘भविष्यवाणीÓ से परेशान भाजपा को बाबा रामदेव के अभियान में आशा की किरण दिख रही है। दरअसल, बाबा के इस आंदोलन ने न सिर्फ कांग्रेस विरोधी हवा को तेज किया है, बल्कि पुराने राजग को भी जिंदा कर दिया है। बीजू जनता दल (बीजद) और तेलुगु देसम पार्टी (टीडीपी) भी रामदेव के साथ खड़े हैं। लेकिन, टीम अन्ना की राजनीतिक मंशाओं से झटका खा चुकी भाजपा इसका खयाल रखना चाहती है कि उसके निजी आंदोलन व प्रदर्शन रामदेव अभियान की छाया में न छिप जाएं|

पिछले कुछ दिनों से दूर से ही रामदेव के आंदोलन को नैतिक समर्थन दे रही भाजपा सोमवार को पहली बार उनके मंच पर गई तो सब कुछ ठोक-बजाकर। पार्टी अध्यक्ष नितिन गडकरी खुद बाबा के साथ मंच पर थे। सूत्रों के अनुसार भाजपा के अंदर बाबा के साथ खड़े होने पर नेताओं में कोई मतभेद नहीं था। बीजद और आरपीआइ रविवार को ही मंच पर जा चुके थे। जबकि, जदयू, अकाली दल और टीडीपी को भी बाबा का आमंत्रण स्वीकार था। ऐसे में भाजपा के लिए निर्णय लेना और आसान था। गौरतलब है कि बीजद और टीडीपी पुराने राजग का हिस्सा रहे हैं। टीडीपी ने बाहर से अटल बिहारी वाजपेयी सरकार को समर्थन दिया था। अगले लोकसभा चुनाव में उतरने से पहले भाजपा के लिए यही पहली जीत होगी कि उसके गठबंधन का विस्तार हो। कांग्रेस विरोधी एकजुट हों तो उसका फायदा जाहिर तौर पर राजग को भी मिलेगा|

इस बीच, भाजपा की ओर से यह दिलाया जाता रहेगा कि काले धन और भ्रष्टाचार के मुद्दे पर भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी रथयात्रा तक निकाल चुके हैं। सब कुछ ठीक रहा तो भाजपा नेता रामदेव के अनशनों में हिस्सा तो लेंगे, लेकिन हर राज्य में अपनी अलग अलख भी जगाते रहेंगे। पार्टी प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद ने इसका संकेत भी दे दिया। उन्होंने कहा, काला धन देश का मुद्दा है और 2009 के लोकसभा चुनाव में पार्टी इसे जनता के सामने उठा चुकी है। पार्टी राजनीतिक फायदे के लिए नहीं बल्कि देशहित के लिए रामदेव को नैतिक समर्थन दे रही है। उन्होंने चुनौती दी कि सरकार की मंशा में थोड़ी भी सच्चाई है तो विदेश में जमा काले धन को वापस लाए|

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.