प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को 49वीं बार मन की बात के जरिए देश की जनता को संबोधित किया। मोदी ने सरदार पटेल को याद करते हुए कहा कि 31 अक्टूबर को उनकी जयंती है और स्टैच्यू ऑफ यूनिटी देश की तरफ से उनको सच्ची श्रद्धांजलि होगी। पीएम ने कहा कि इस दिन पूरा देश एकता के लिए दौड़ेगा।

मोदी ने कहा कि खेल जगत में स्पिरिट, स्ट्रेंथ, स्किल, स्टैमिना ये सारी बातें बेहद महत्वपूर्ण हैं। ये किसी खिलाड़ी की सफलता की कसौटी होते हैं और यही चारों गुण किसी राष्ट्र के निर्माण के भी महत्वपूर्ण होते हैं। इस वर्ष भारत को भुवनेश्वर में पुरुष हॉकी वर्ल्ड कप 2018 के आयोजन का सौभाग्य मिला है। यह टूर्नामेंट 28 नवम्बर से प्रारंभ हो कर 16 दिसंबर तक चलेगा। हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद से लेकर धनराज पिल्लई तक भारतीय हॉकी ने एक लंबा सफर तय किया है। भारत का हॉकी में एक स्वर्णिम इतिहास रहा है।

मोदी ने कहा कि पिछले दिनों मैं एक कार्यक्रम में गया था जहां ‘सेल्फ फॉर सोसायटी’ नाम का एक पोर्टल लॉन्च किया गया है। यानी समाज के लिए हम, इस काम के लिए लोगों में जो उत्साह है उसे देखकर हर भारतीय को गर्व महसूस होगा। आईटी से सोसायटी, मैं नहीं हम, अहम् नहीं वयम्, स्व से समष्टि तक की यात्रा की इसमें महक है।

मोदी ने कहा कि आज पूरी दुनिया पर्यावरण संरक्षम की चर्चा कर रही है। लोग बैंलेंस्ड लाइफस्टाइल के लिए नए रास्ते तलाश रहे हैं। प्रकृति के साथ सामंजस्य बनाकर रहना हमारी संस्कृति का हिस्सा रहा है। हमारे आदिवासी भाई-बहन पेड़-पौधों की पूजा देवी-देवताओं की तरह करते हैं। आदिवासी बेहद शांति से आपस में मिल जुलकर रहने में यकीन रखते हैं। लेकिन यदि कोई उनके प्राकृतिक संसाधनों को नुकसान पहुंचाने की कोशिश करता है तो वे लड़ने से भी पीछे नहीं हटते है।

पीएम ने कहा कि जब भी विश्व शांति की बात होगी तब भारत का नाम और योगदान स्वर्ण अक्षरों में अंकित दिखेगा। भारत के लिए 11 नवंबर का दिन बेहद महत्वपूर्ण है। 11 नवंबर को आज से 100 साल पहले प्रथम विश्व युद्ध समाप्त हुआ था। उस दौरान हुए विनाश और जनहानि को एक सदी पूरी हो जाएगी। उस युद्ध में भारत का सीधा कोई लेना-देना नहीं था लेकिन फिर भी हमारे जवान उस युद्ध में लड़े, शहीद हुए। भारतीय जवानों ने दुनिया को दिखलाया कि जब युद्ध की बात आती है तो वह किसी से पीछे नहीं है। हमारे सैनिकों ने दुर्गम क्षेत्रों में उल्लेखनीय शौर्य दिखाया है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.