राज्‍यसभा से इस्‍तीफा देने के बाद मायावती को लालू यादव ने सहारा दिया है।  लालू यादव ने कहा, ”मायावती गरीबों और दलितों की नेता हैं। वे सहारनपुर की घटना को सदन में उठाना चाहती थीं, लेकिन सरकार के लोगों ने मिलकर उन्हें रोका और बोलने नहीं दिया। इससे दुखी होकर उन्होंने इस्तीफा दे दिया। सही बोला कि जहां दलितों और पिछड़ों की बात न सुनी जाए, वहां रहने का कोई फायदा नहीं।”
“हम मायावती का सपोर्ट करते हैं। मैं उनकी बहादुरी का तारीफ करता हूं। अगर वे चाहती है कि वे फिर से राज्यसभा जाएं, तो हम उन्हें बिहार से भेज सकते हैं। मायावती के खिलाफ बीजेपी मंत्रियों का बिहेवियर बताता है कि बीजेपी एंटी-दलित पार्टी है।”

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.