लखनऊ। योगी सरकार के नये फैसले की गाज अब विधायकों पर गिरने वाली है। हाल ही में सम्‍पन्‍न हुई भाजपा की कार्यसमिति की बैठक में बडे नेताओं द्वारा अपने विधायकों दी जाने वाली नसीहतें इसी ओर इशारा कर रही हैं। सूत्र बताते हैं कि उत्तर प्रदेश में भारी बहुमत से आयी भाजपा विधायकों की निधि समाप्त करने की प्रबल पक्षधर रही है। गवर्नर राम नाईक ने कहा था कि विधायक ठेकेदारी से दूर रहें। नाईक ने विधायक निधि के उपयोग पर विधायकों से कहाकि वह जन हित में ही योजना बनाकर ही इस निधि का उपयोग करें। विधायक निधि के दुरुपयोग की पूर्व सरकारों में कई शिकायतें आई हैं। वीआईपी कल्‍चर खत्‍म होने के बाद विधायक निधि पर भी भाजपा कोई कडा फैसला ले सकती है।

मुख्‍यमंत्री ने कहा, जनता के प्रति विश्‍वसनीय रहें विधायक
विधायकों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी समझा चुके हैं कि अब प्रदेश में भाजपा की सरकार है। इसलिए पहले की तुलना में भाजपा विधायकों पर पहले से कई गुना जिम्‍मेदारी बढ गई है। आज सार्वजनिक क्षेत्र में काम करने वाले जनप्रतिनिधियों के लिये विश्वसनीयता का संकट है। नियम के दायरे में रहकर अपनी बात रखी जाये तो ज्यादा प्रभावी भी होती है और समाधान भी निकलता है। अमर्यादित व नियम विरूद्ध बात न कहें। विधायिका के माध्यम से तकदीर और तस्वीर दोनों बदल सकती है। जनप्रतिनिधि जनता के दुःख.दर्द को समझें और जनता के प्रति जवाबदेह रहें। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार भी विश्वसनीयता की कमी का कारण है।

अमित शाह ने भी विधायकों व मंत्रियों को दी हिदायत, ठेकेदारी से रहें दूर
भाजपा प्रदेश कार्यसमिति को सम्बोधित करने आये राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी के विधायकों से साफ-साफ कहाकि अब सत्‍ता में आने के बाद भाजपा विधायकों की जिम्‍मेदारियों पहले से कई गुना बढ गई हैं। क्‍योंकि पिछले 15-20 सालों में प्रदेश में विकास के बड़े -बड़े दावे हुए लेकिन भ्रष्‍टाचार का बोलबाला ही रहा। जनप्रतिनिधियों की रूचि विधायी कार्यों से ज्यादा निर्माण और निधि पाने में लगने लगा। विधायक निधि लेने के लिए विधायकों में होड लगी रही लेकिन सही मद में बहुत कम ही खर्च हो पाई।
मंत्रियों व विधायकों के परिवार या रिश्‍तेदार ठेकेदारी में लिप्‍त रहे तो खैर नहीं
मंत्रियों को कड़ी हिदायत देते हुए अमित शाह ने कहा था कि परिवारीजन और रिश्तेदार यदि भ्रस्टाचार और ठेकेदारी में लिप्त पाए गए तो ठीक नहीं होगा। इस सन्दर्भ में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के क्षेत्रीय प्रचारक स्तर के एक प्रचारक ने कहा कि निर्माण कार्यों को लेकर जनप्रतिनिधियों को बहुत बदनामी मिल रही थी,अभी तो आग्रह शैली में बातें बता दी जा रहीं हैं,संघ चाहता है इसे व्यव्हार में उतारा जाये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.