सोल। लगातार मिसाइल परीक्षण करके कड़े अमरीकी प्रतिबंध के खतरों का सामना कर रहे उत्तर कोरिया ने फिर से दक्षिण प्योंगयाग प्रांत के बुकचांग क्षेत्र से बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया। उत्‍तर कोरिया की हरकत पर अमेरिका ने अब उस पर जवाबी कार्रवाई करने की चेतावनी दी है। डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद से अब तक उत्तर कोरिया नौ बार मिसाइल परीक्षण कर चुका है। पेंटागन ने भी उत्तर कोरिया की ओर से शनिवार को मिसाइल परीक्षण किए जाने की पुष्टि की है।  सीएनएन ने अमेरिकी अधिकारियों के हवाले से बताया कि उत्तर कोरिया ने मध्यम दूरी तक मार करने में सक्षम KN-17 बैलिस्टिक मिसाइल को मोबाइल से लांच किया, जो जापान सागर तक नहीं पहुंच सकी।
अमेरिकी सेना के पैसिफिक कमान के प्रवक्ता दवे बेनहम ने कहा कि उत्तर कोरियाई बैलिस्टिक मिसाइल शनिवार सुबह 10:33 बजे लांच की गई। हालांकि अभी तक उत्तर कोरिया की ओर से इस बाबत कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। अमेरिका के साथ गहराए तनाव के बीच उत्तर कोरिया की ओर से फिर से किए गए बैलिस्टिक मिसाइल ने वैश्विक चिंता बढ़ा दी है।

दक्षिण कोरियाई सेना प्रमुख के मुताबिक शनिवार तड़के यह मिसाइल उत्तर कोरिया की राजधानी प्योंगयोंग के उत्तर स्थित प्योनगान प्रांत के एक परीक्षण स्थल से लांच की गई। इससे पहले उत्तर कोरिया ने करीब 12 दिन पहले एक मिसाइल का परीक्षण किया था। उसने यूएन में धमकी भी दी थी कि वह हर हफ्ते मिसाइल परीक्षण करेगा। वहीं, व्हाइट हाउस ने बताया कि उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षण की जानकारी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को दे दी गई है।

ट्रंप बोले- उत्तर कोरिया ने चीन का अपमान किया
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर कहा कि उत्तर कोरिया ने मिसाइल परीक्षण कर चीन का अपमान किया है। यह बेहद बुरा है। दरअसल, चीन ने उत्तर कोरिया से मिसाइल परीक्षण और परमाणु कार्यक्रम को बंद करने को कहा था। ऐसे में ट्रंप चीन को अपने पक्ष में लाने की कोशिश करते नजर आ रहे हैं। उनका यह बयान चीन को उत्तर कोरिया के खिलाफ उकसावे के रूप में माना जा रहा है।


उत्तरी अमरीका को खतरा नहीं
पीएसीओएम के प्रवक्ता डेव बेनहम ने एक बयान में बताया, ‘यूएस पैसेफिक कमांड ने इसका पता लगाया और हमारा अनुमान है कि उत्तर कोरिया ने 28 अप्रैल को हवाई समयानुसार सुबह 10 बजकर 33 मिनट पर पुक्चांग एयरफील्ड के पास किया गया। बेहनम ने कहा, ‘मिसाइल उत्तर कोरियाई क्षेत्र से बाहर नहीं आ सकी।’ उन्होंने कहा कि ‘नॉर्थ अमेरिकन एयारोस्पेस डिफेंस कमांड’ (एनओआरएडी) इस पर दृढ़ है कि उत्तर कोरियाई मिसाइल प्रक्षेपण से उत्तरी अमरीका को कोई खतरा नहीं है। बेनहम के मुताबिक, ‘यूएस पैसेफिक कमान कोरियाई गणराज्य एवं जापान में अपने सहयोगियों की सुरक्षा के के लिए प्रतिबद्धता से खड़ा है।’ रिपोर्ट के अनुसार, मिसाइल संभवत: मध्यम दूरी की केएन-17 बैलिस्टिक मिसाइल थी।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.