वाशिंगटन। सीरिया के रासायनिक हमलों पर अमेरिका ने अपनी नाराजगी खुलकर जता दी है। अमेरिका ने सीरिया सरकार द्वारा कथित तौर पर रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल पर कार्रवाई करते हुए सीरिया के वैज्ञानिक शोध एवं अनुसंधान केंद्र (एसएसआरसी) के 271 कर्मचारियों पर प्रतिबंध लगा दिया है। अमेरिकी वित्त विभाग की ओर से जारी बयान के अनुसार, सीरिया की सरकारी एजेंसी एसएसआरसी के कर्मचारियों की जिम्मेदारी गैर-पारंपरिक हथियारों को तैयार करने की है।

रासायनिक हथियार कार्यक्रम से जुडे हैं एसएसआरसी के कर्मचारी

बयान के मुताबिक, “एसएसआरसी के ये 271 कर्मचारी रसायन में पारंगत हैं और ये 2012 से एसएसआरसी के रासायनिक हथियार कार्यक्रम से जुड़े हुए हैं। अमेरिका ने एसएसआरसी के इन कर्मचारियों पर प्रतिबंध लगा दिया है। अमेरिका का आरोप है कि चार अप्रैल को सीरिया के खान शयखुन कस्बे में हुआ रासायनिक हमला सीरियाई सरकार ने किया। अमेरिका ने रासायनिक हमले के दो दिन बाद ही सीरिया के सैन्यअड्डे को निशाना बनाकर 59 टॉमहॉक मिसाइलें दागी थीं। अमेरिका के वित्त मंत्री स्टीवन मनुचिन ने कहा कि इन प्रतिबंधों से अमेरिका एक सशक्त संदेश भेज रहा है कि ‘वह मानवाधिकारों के उल्लंघन के लिए पूरे असद प्रशासन को जिम्मेदार ठहराएगा।’

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.