लखनऊ। तीन तलाक का मामला अब तूल पकडता जा रहा है। मुस्लिम महिलाएं इसके खिलाफ आवाज उठा रही हैं। तीन तलाक के मामले इसी वजह से अब मीडिया के सामने आ रहे हैं। उत्तर प्रदेश के अमरोहा की रहने वाली एक राष्ट्रीय खिलाड़ी तीन तलाक का दंश झेल रही है। ससुराल से निकाले जाने के बाद यह राष्ट्रीय खिलाड़ी मासूम बेटी को साथ लेकर न्याय के लिए दर-दर की ठोकरें खा रही है, न्याय के लिए इसे अफसरों के चक्कर काटने पड़ रहे हैं। उसके शौहर पर आरोप है कि उसने दहेज की खातिर शुमायना शरीफ को उसके बर्थडे के दिन ही तलाक दे दिया। शुमायना को उसके पति ने दुबई से व्हाट्सएप्प पर तलाक का मैसेज भेजकर तलाक दे दिया। पीडित अब योगी से मिलकर शिकायत करेगी।
देश-विदेश के कई पुरस्‍कार हैं शुमायना के नाम
यूपी में अमरोहा शहर के मुहल्ला पीरजादा निवासी जावेद इकबाल की बेटी शुमायना बचपन से ही बेहतरीन खिलाड़ी थीं। शुमायला नेटबॉल में सात बार नेशनल और चार बार ऑल इंडिया प्रतियोगिता में हिस्सा ले चुकी हैं। बेहतरीन खिलाड़ी होने के कारण उन्हें कई पुरस्कारों से नवाजा भी गया है। शुमायना का निकाह 9 फरवरी, 2014 को नवाबों के शहर लखनऊ के गोसाईगंज के मोहनलालगंज निवासी फारुख अली के बेटे आजम अब्बासी से हुआ था।
ससुराल वालों ने जला कर मारने तक की कोशिश की
शादी के कुछ ही महीने बाद ससुराल वाले दहेज के लिए परेशान करने लगे। बकौल शुमायना, दहेज की मांग पूरी न होने पर उन्हें जलाकर मारने की कोशिश भी की गई। शुमायला कहती हैं कि वह गर्भवती हुईं तो ससुरालियों ने नियम-कानून को ताक पर रखकर भ्रूण लिंग की जांच कराई. जांच में उनके गर्भ में बेटी होने का पता चला। इसके बाद ससुराल वालों ने उनसे मुंह मोड़ लिया।
बेटी के जन्‍म होते ही घर से निकाल दिया
एक दिन ससुरालियों ने गर्भवती शुमायना को घर से निकाल दिया। शुमायना ने अमरोहा स्थित मायके में ही एक बिटिया को जन्म दिया। शुमायना ने बताया कि मैं बेटी को लेकर ससुराल पहुंची तो उन्होंने आठ अप्रैल, 2015 को मुझे मारपीट कर घर से निकाल दिया और कहा कि फिर दिखाई मत देना ।
शुमायना कहती हैं कि 25 अप्रैल, 2015 को उन्होंने ससुरालियों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज कराया तो पति ने तलाक दे दिया। तभी से वह न्याय के लिए भटक रही हैं। शुमायना ने अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मदद की गुहार लगाई है। उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि योगी सरकार न्याय जरूर दिलाएगी। उन्होंने इस सिलसिले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को खत भी लिखा है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.