कर्नाटक ने शनिवार को विजय हजारे ट्रोफी के ग्रुप-डी के मैच में महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली झारखंड को पांच रन से हरा दिया। टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए कर्नाटक की टीम ने 49.4 ओवरों में सभी विकेट खोकर 266 रन बनाए थे। जबकि झारखंड की टीम 49.5 ओवरों में 261 रनों पर ही ऑलआउट हो गई।

धोनी ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का निर्णय लिया। झारखंड ने 51 रनों पर कर्नाटक के दो विकेट लेकर उसे परेशानी में डाल दिया था। लेकिन कप्तान मनीष पांडे (77) और रविकुमार समर्थ (71) ने तीसरे विकेट के लिए 116 रनों की साझेदारी कर टीम को संभाला। समर्थ के 167 रनों पर आउट होने के बाद पांडे ने पवन देशपांडे के साथ चौथे विकेट के लिए 57 रन जोड़े। इस जोड़ी के टूटने के बाद कर्नाटक की टीम वापसी नहीं कर सकी और लगातार विकेट गंवाकर बड़ा स्कोर बनाने से चूक गई।

झारखंड की तरफ से राहुल शुक्ला ने चार विकेट लिए। वरुण एरॉन, मोनू कुमार, और आनंद सिंह ने दो-दो विकेट लिए हालांकि गौतम के नेतृत्व में टीम के गेंदबाजों ने झारखंड को जीत से महरूम रखा। झारखंड ने 3 रनों पर अपने दो विकेट खो दिए थे।

दो युवा खिलाड़ियों ईशान किशन (36) ईशान जग्गी ने (25) ने टीम को 61 के कुल स्कोर तक पहुंचाया। इसी स्कोर पर जग्गी और 79 के स्कोर पर किशन आउट हो कर पवेलियन लौट गए। धोनी (43) ने सौरव तिवारी (68) के साथ 81 रनों की साझेदारी कर टीम को जीतने की कोशिश की लेकिन इन दोनों के जाने के बाद कोई और बल्लेबाज अपनी जिम्मेदारी नहीं निभा सका और झारखंड की टीम मैच हार गई।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.