नरेंद्र मोदी आज मेरठ में रैली को संबोधित कर रहे हैं। इसमें मेरठ, मुजफ्फरनगर, बागपत, हापुड़ और गाजियाबाद जिले के 18 विधानसभा सीट के कैंडिडेट शामिल हुए। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि, कुछ दिन पहले देखा होगा कि कांग्रेस गांव-गांव जाकर ये बता रही थी कि यूपी को कैसे लूटा जा रहा है? यूपी सरकार को बदनाम कर रहे थे। कांग्रेस कह रही थी कि यूपी सरकार बेइमान है, गुंडागर्दी करती है। अब रातों रात ऐसा क्या हो गया कि दोनों गले लग गए। राजनीति में गठबंधन तो हमने देखे हैं, लेकिन ऐसा गठबंधन पहली बार देखा।

पीएम मोदी की रैली की प्रमुख बातें
मोदी ने कहा- “मुझे आज मेरठ की पवित्र धरती पर आने का सौभाग्य मिला है। 1857 का स्वतंत्रता संग्राम का आगाज यहीं से हुआ था। मेरा सौभाग्य है कि उत्तर प्रदेश के चुनावों का बिगुल बजाने का सौभाग्य मुझे मिला है। उस समय अंग्रेजों से मुक्ति की लड़ाई थी और आज गरीबी से मुक्ति की लड़ाई है। उस समय विदेशी ताकतों से लड़ाई थी और आज भ्रष्ट लोगों के खिलाफ लड़ाई है।
आज माफियाओं से हमारी लड़ाई है। ये लड़ाई भ्रष्टाचार कर, गुंडाराज चलाकर, अपराधियों को राजनीतिक आश्रय देने वालों के खिलाफ लड़ाई है। यूपी के पास देश का सबसे बढ़िया राज्य बनने की क्षमता है। जमीन है, प्राकृतिक संसाधन हैं, किसान हैं, संकल्पशील युवा हैं। यूपी के नौजवानों को मां-बाप, खेतखलिहान छोड़कर शहरों में झुग्गी-झोपड़ी में जिंदगी गुजारनी पड़ती है।
मोदी ने कहा, ‘मुझे यूपी का कर्ज चुकाना बाकी है। ढाई साल में दिल्ली में आपने मुझे बिठाया। बहुत सारे गरीबों,मध्यमवर्ग, नौजवान, शोषित, महिलाओं, दलितों के लिए मैंने काम किया। लेकिन, यूपी के लिए कुछ और काम करना बाकी है।’
मैं उत्तर प्रदेश में कितना ही अच्छा क्यों ना करना चाहूं, लेकिन यहां रुकावटें पैदा करने वाली सरकारें बैठी रहीं, तो दिल्ली से योजनाएं चलेंगीं वो यहां अटक जाएंगी। ये जब तक यूपी में बैठी हुई सरकार को नहीं हटाते हैं, तो दिल्ली से जो मैं भेज रहा हूं, वो यहां पहुंचेगा ही नहीं।
मेरठ आजादी के सेनानियों को जन्म देने वाली धरती है। हिंदुस्तान का नौजवान मेरठ के खेल-कूद के साधनों से भारत को विजयी बनाता है। मेरठ पश्चिमी उत्तर प्रदेश के विकास का द्वार है।
लेकिन, मेरठ का हाल क्या है। कोई सामान्य नागरिक शाम को घर जिंदा लौटेगा, इसकी गारंटी है क्या? क्या कारण है कि निर्दोष नागरिकों को मार दिया जा रहा है। यूपी में हत्या करने वालों पर कोई कानूनी कार्रवाई नहीं हो रही है। यहां गुंडागर्दी राजनीतिक आश्रय में पली-बढ़ी है। गुंडागर्दी को आश्रय देने वालों को हटाना है कि नहीं? मां-बहन की इज्जत बचानी है कि नहीं बचानी है?
कुछ दिन पहले देखा होगा कि कांग्रेस गांव-गांव जाकर ये बता रही थी कि यूपी को कैसे लूटा जा रहा है। यूपी सरकार को बदनाम कर रहे थे। कांग्रेस कह रही थी कि यूपी सरकार बेइमान है, गुंडागर्दी करती है।
अब रातों रात ऐसा क्या हो गया कि आप उनके गले लग गए। राजनीति में गठबंधन तो हमने देखे हैं, लेकिन ऐसा गठबंधन पहली बार देखा। जो सुबह-शाम एक-दूसरे के खिलाफ बोलने का कोई मौका नहीं छोड़ते थे, वो आज गले लगकर कह रहे हैं- बचाओ, बचाओ, बचाओ। जो खुद को नहीं बचा सकते, वो उत्तर प्रदेश को क्या बचा पाएंगे।
इनको उत्तर प्रदेश के भाग्य से कोई लेना-देना है क्या? ये चुनाव स्कैम के खिलाफ भाजपा की लड़ाई है। SCAM के खिलाफ भाजपा की लड़ाई है। SCAM यानी समाजवादी, कांग्रेस, अखिलेश, मायावती के खिलाफ बीजेपी की लड़ाई है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.