भारतीय टेनिस स्टार ने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन का किया दावा
भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्जा ने यह भविष्यवाणी करने से इन्कार कर दिया कि भारत लंदन ओलम्पिक खेलों में कितने पदक जीत सकता है लेकिन उन्होंने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन का वादा किया। सानिया ने कहा कि मैं समझती हूं कि पदकों की कोई संख्या तय करना सही नहीं होगा। लंदन ओलम्पिक जाने से पहले हम सभी पर दबाव है। हम पदक का वादा नहीं कर सकते लेकिन अपना शत प्रतिशत योगदान देंगे। सानिया 27 जुलाई से शुरू होने वाले ओलम्पिक खेलों में महिला युगल में रश्मि चक्रवर्ती और
मिश्रित युगल में लिएंडर पेस के साथ जोड़ी बनाएगी। यह हैदराबादी खिलाड़ी एनडीटीवी के ‘माक्र्स फोर स्पोट्र्स’ अभियान के पैनल वक्ताओं में शामिल थी। उन के अलावा टेनिस स्टार महेश भूपति, केंद्रीय खेल मंत्री अजय माकन, भारतीय फुटबॉल टीम के कप्तान बाईचुंग भूटिया और क्रिकेट स्टार वीरेंद्र सहवाग भी वक्ताओं में शामिल थे। ओलम्पिक में भारत की सम्भावना  के बारे में पूछने पर माकन ने कहा कि उन के लिये देश  के पदकों की संख्या की भविष्यवाणी करना सही नहीं होगा। माकन ने कहा कि मैं इस पर कुछ भी नहीं कहना चाहूंगा क्योंकि यह अनुचित होगा। हमारे सबसे अधिक खिलाड़ी इन ओलम्पिक में भाग ले रहे हैं। पिछली बार बीजिंग 2008 हमारे लगभग 50 खिलाडिय़ों ने क्वालिफाई किया था जबकि इस बार 81 ने क्वालिफाई किया है। भारतीय दल में गैर खिलाड़ी लोगों की संख्या में कटौती करने  के सवाल पर माकन ने उम्मीद जताई कि जब अगले ओलम्पिक खेल होंगे तो खेल मंत्री भी कोई पूर्व खिलाड़ी होगा। उन्होंने कहा कि मैं चाहता हूं कि अगले ओलम्पिक खेल तक खेल मंत्री कोई खिलाड़ी बन जाए। मैं जिन दस लोगों  के दल  के साथ लंदन जा रहा हूं उनमें से केवल मैं ही खिलाड़ी नहीं हूं।  राष्ट्रीय खेल हॉकी  के बारे में माकन ने कहा कि चार साल पहले भारत ओलम्पिक  के लिए क्वालिफाई भी नहीं कर पाया था लेकिन तब से इस खेल में काफी प्रगति हुई है। उन्होंने कहा कि इस बार हमने क्वालिफाई किया है। पिछली बार हम क्वालिफाई करने में नाकाम रहे थे। हमारी टीम आगे बढ़ रही है और हॉकी  के लिए चीजों में सुधार हो रहा है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.