tamil-nadu-chief-minister-jayalalithaa_650x400_51463582926चेन्‍नई. तमिलनाडु की मुख्‍यमंत्री जयललिता की मौत की खबरें बेबुनियाद हैं। उनका अभी भी इलाज चल रहा है। सोमवार शाम अपोलो अस्‍पताल ने यह सफाई जारी की। अस्‍पताल को सफाई इसलिए देनी पड़ी, क्‍योंकि जयललिता की मौत की खबर कई स्‍थानीय और राष्‍ट्रीय मीडिया में चल गई थी। सूत्र बताते हैं कि इस खबर को जयललिता की पार्टी के नेताओं ने भी गलत नहीं माना था। चेन्‍नई में एआईएडीएमके दफ्तर पर पार्टी का झंडा भी झुका दिया गया था। थोड़ी देर बाद झंडेे को फिर से ऊपर कर दिया गया। जयललिता के सैकड़ों समर्थक चेन्‍नई में सड़कों पर आ गए थे। उनके बीच मातम पसर गया था। कुछ जगह मारपीट भी हुई। अपोलो अस्‍पताल के बाहर सुरक्षा बलों की भारी तैनाती की गई। 68 वर्ष की जयललिता 74 दिन से चेन्‍नई के अपोलो हॉस्पिटल में भर्ती हैं।
अभी भी लाइफ सपोर्ट सिस्‍टम पर हैं जयललिता
अपोलो हॉस्पिटल का कहना है कि वह अभी भी लाइफ सपोर्ट सिस्‍टम पर हैं। रविवार को उन्‍हें दो कार्डिएक अरेस्‍ट पड़े थे, जिसके बाद से उनकी हालत बेहद गंभीर बनी हुई है। चेन्‍नई में अस्‍पताल के बाहर जयललिता के समर्थकों की भारी भीड़ जमा है। लोग रो-बिलख रहे हैं और अफरातफरी का माहौल है। जयललिता समर्थकों और पुलिस के बीच झड़प भी हुई है। ऑल इंडिया अन्‍ना द्रविड़ मुनेत्र कणकम (एआईएडीएमके) के रोयापेटा स्थित मुख्‍यालय पर झंडा पहले आधा झुकाया गया, फिर उसे पूरा उठाया गया। अपोलो अस्‍पताल की एक्‍जीक्‍यूटिव डायरेक्‍टर संगीता रेड्डी ने कहा है कि ‘अपोलो और एम्‍स के डॉक्‍टर्स की एक बड़ी टीम सभी जीवनरक्षक उपाय कर रही है।’ बता दें कि जयललिता के समर्थक उनके नुकसान की कोई खबर बर्दाश्‍त नहीं कर पाते हैं। कुछ समय पहले जब उन्‍हें अदालती पचड़ों में काफी परेशानी झेलनी पड़ी थी और भ्रष्‍टाचार के मामले में सजा हुई थी, तब भी उनके कई समर्थकों ने जान दे दी थी।
22 सितंबर को अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया था
बुखार और डिहाइड्रेशन की शिकायत के चलते जयललिता को 22 सितंबर को अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया था। कुछ दिन पहले अपोलो हॉस्पिटल्स के चेयरमैन प्रताप सी रेड्डी ने कहा था कि तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता ‘‘पूरी तरह स्वस्थ हो गई हैं।’’ अस्‍पताल की ओर से चार दिसंबर को जारी बुलेटिन में कहा गया, ”कार्डियोलॉजिस्‍ट, पल्‍मोनोलॉजिस्‍ट और क्रिटिकल केयर स्‍पेशलिस्‍ट्स उनका ट्रीटमेंट और मॉनिटरिंग कर रहे हैं।” जयललिता को दिल का दौरा पड़ने के बाद केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ, स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री जेपी नड्डा ने डॉक्‍टर्स से बात की थी। वहीं पक्ष-विपक्ष के कई नेताओं ने उनके जल्‍द ठीक होने की कामना की थी।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.