indian-currency-notes_650x488_51449207445मुंबई। मोदी सरकार की नजर अब बैंक अफसरों व बाबुओं पर है। बैंकों की लम्बी लम्बी कतारों से जनता को हो रही असुविधा के कारण सरकार सख्त कदम उठाने जा रही है। बैंकों में बैक डोर से कालेधन को सफेद करने वाले कर्मचारियों और अधिकारियों पर आरबीआई जल्द ही शिकंजा कसने जा रही है। भारतीय रिजर्व बैंक ने बैंकों से पुराने मुद्रा को बदलने या ऐसा करने में मदद करने वाले अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने को कहा है। आरबीआई यह बात ऐसे समय कही है जब लाखों लोग बंद हो चुके 500 और 1,000 रुपये के नोटों को बैंकों से बदलवा रहे हैं।

जमा या बदले गए नोट के बारे में कभी भी मांगी जा सकती है जानकारी

बैंकों से यह भी कहा गया है कि वे बदले गये या जमा किये गये नोट के बारे में कम समय में मांगने पर जानकारी उपलब्ध कराने को तैयार रहें। रिजर्व बैंक ने कहा कि जानकारी मिली है कि कुछ जगहों पर कुछ बैंक शाखा के अधिकारी गलत लोगों के साथ मिलकर नोटों को बदलने या उसे जमा करने में धोखाधड़ी में शामिल हैं। आरबीआई ने कहा कि इसीलिए बैंकों को सलाह दी जाती है कि वे इस प्रकार की धोखाधड़ी वाली गतिविधियों पर निगरानी बढ़ाकर लगाम लगायें और ऐसी गतिविधियों में शामिल अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करें।

आरबीआई के दिशानिर्देशों का सख्ती से पालन करें बैंक
आरबीआई ने बैंकों से कहा है कि वे नोट बदलने और उसे अपने ग्राहकों के खातों में जमा करने के मामले में निर्देशों का कड़ाई से पालन करें। शीर्ष बैंक ने बैंकों से ग्राहकों के आधार पर नोटों के बदलने और उसे जमा करने के बारे में पूरा आंकड़ा रखें। उन्होंने अल्प अवधि में आंकड़ा मांगने पर ब्योरा उपलब्ध कराने को लेकर तैयार रहना चाहिए। गौरतलब है देश के कुल 2.2 लाख एटीएम में 82,500 एटीम को सोमवार शाम तक रिकैलिब्रेट किया जा चुका है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.