sbi-atmनई दिल्ली। देश भर के 19 बैंकों को पहली बार इस तरह के दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। हैकिंग और डाटा लीक के डर से उन्हें करीब 32 लाख डेबिट कार्ड्स को ब्लॉक किये गये है। हालांकि ये सभी कार्ड्स रिकॉल कर लिए हैं। यहीं से जो डाटा लीक हुआ उससे होने वाले नुकसान को कम करने के लिए बैंकों ने ये कदम उठाया है।

चोरी माना जा रहा
इस पूरे प्रकरण की शुरुआत एक पेमेंट सर्विस प्रोवाइडर की सिक्युरिटी में लगी सेंध के बाद हुई। और इससे देशभर में हुई अब तक की सबसे बड़ी डेबिट कार्ड डाटा की चोरी माना जा रहा है। जबकि बैंकों ने कस्टमर्स को एहतियातन अपने पिन बदल देने के लिए अलर्ट जारी किया है।

जानिए पूरा मामला
इस पूरे मामले की शुरुआत तब हुई जब दो दिन पहले SBI ने अपने 6 लाख डेबिट कार्ड्स ब्लॉक कर दिए। SBI ने कुछ भी साफ़-साफ़ न बताते कहा कि ये उनका एहतियातन उठाया गया। बाद में गुरूवार को SBI समेत 5 और बैंको ने भी ये बात मान ली कि उनके कस्टमर्स के डेबिट कार्ड्स के डीटेल्स और पिन नंबर चोरी हो गए हैं। उन ATM कार्ड को किया जा रहा है जिनका मालवेयर के जरिए डाटा चुराया जा रहा है। जिन बैंकों का डाटा चोरी हुआ है उनमें SBI, HDFC, ICIC, Yes bank और एक्सिस बैंक शामिल हुए। अब इस लिस्ट में 19 बैंक शामिल हैं।

कुछ बैंको ने की सलाह जारी
अब बैंक ऑफ बड़ौदा, आईडीबीआई, सेंट्रल बैंक और आंध्र बैंक ने भी अपने कस्टमर्स को पिन चेंज करने और कुछ दिनों तक मैग्नेटिप स्ट्रिप वाले डेबिट कार्ड न इस्तेमाल करने की सलाह जारी की है। कुछ बैंकों का नाम तो सामने आया है लेकिन उन्होंने अभी तक इस बारे में कोई बयान जारी नहीं किया है। हालांकि कई बैंक कस्टमर्स ने चीन-यूएस में उनके इंटरनेशनल डेबिट कार्ड से पैसा निकाले जाने की शिकायत की है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.