पेय उत्पाद बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी कोका-कोला के चेयरमैन एवं मुख्य कार्याधिकारी मुहतार केंट ने भारत में 500 करोड़ डॉलर 28 हजार करोड़ के निवेश  की घोषणा की। कंपनी अगले आठ साल के दौरान यह निवेश करेगी। इस रकम का इस्तेमाल नए बॉटलिंग संयंत्र लगाने और परिचालन बेहतर करने में किया जाएगा। केंट ने उम्मीद जताई कि इस निवेश के बाद भारत पेय उत्पाद के लिए सबसे बड़े बाजारों की सूची में सातवें स्थान से चढक़र पांचवें स्थान पर आ जाएगा। 1993 में दोबारा भारतीय बाजार में कदम रखने से लेकर अभी तक कोका कोला यहां करीब 200 अरब डॉलर का निवेश कर चुकी है। करीब चार साल के अंतराल के बाद भारत आए केंट ने कहा, हम 2012-2020 के दौरान भारत में 500 करोड़ डॉलर निवेश करने की योजना बना रहे हैं। हम निवेश को क्यों बढ़ा रहे हैं? क्योंकि हमें पूरा भरोसा है कि भारत में मौजूद संभावनाओं को देखते हुए यह सही फैसला है। पिछले 10 साल के दौरान हमने भारत में 140 करोड़ डॉलर का निवेश किया है भारत में कोका-कोला का यह निवेश इसलिए अहम है क्योंकि कंपनी अगले पांच साल के दौरान अपना राजस्व दोगुना करने के लिए दुनिया भर में 3,000 करोड़ डॉलर का निवेश करेगी। जबकि 2010 में पेप्सिको ने भारत में अगले दो साल के दौरान 50 करोड़ डॉलर निवेश करने की घोषणा की थी।
भारत में इतने बड़े निवेश के फैसले पर केंट ने कहा, भारत में हमारे उत्पादों की प्रति व्यक्ति सालाना खपत महज 12 है यानी कोई आदमी यहां एक महीने में एक ही बोतल पीता है। चीन के लिए सालाना आंकड़ा 38 और केन्या के लिए 40 है और हमारा वैश्विक औसत 92 है। हमें लगता है कि भारत में इस कारोबार में असीमित संभावनाएं हैं। कंपनी ने 2020 तक अपने वैश्विक राजस्व को दोगुना कर 200 अरब डॉलर करने का लक्ष्य रखा है। 2011 में कंपनी वैश्विक स्तर पर कंपनी की बिक्री 5 फीसदी बढक़र 27 अरब केस हो गई। जबकि जूस, कॉफी, स्पोर्ट ड्रिंक्स और पानी की बिक्री में 8 फीसदी बढ़ोतरी दर्ज की गई। पिछले साल कोका-कोला ने भारत में अगले पांच साल के दौरान 200 करोड़ डॉलर निवेश की घोषणा की थी।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.