civil-hospitalलखनऊ। मरीज के साथ आएं तीमारदार की समझदारी से देर रात राजधानी के श्यामा प्रसाद मुखर्जी अस्पताल में एक बड़ा हादसा होने से बच गया। यहां पार्किंग में खड़ी सौ से अधिक बाइकों के कारबोरेटर में पेट्रोल ले जाने वाले पाइप खुले और गायब भी मिले। करीब पांच कारों की बोनट खोलकर पेट्रोल बहा दिया गया था।

इन सभी गाड़ियों का पेट्रोल पार्किंग स्थल पर फैल गया था। उस पार्किंग में एक मोटरसाईकल भी जला हुआ था। एक तीमारदार जब अपनी कार पार्किंग से निकालने पहुंचा तो उसने यहां पेट्रोल का फैला हुआ देख, तुरंत अपने साथियों और अन्य लोगों को जानकारी दी। थोड़ी ही देर में दुर्गंध सूंघकर अन्य लोग भी इकट्ठा होते गए। कुछ ही समय में इंस्पेक्टर व सीओ भी मौके पर पहुंच गए। किसी ने वहां आगजनी की साजिश की थी। लेकिन उसी समय पता चलने पर हादसा टल गया। पुलिस मामले की सभी पहलुओं से पड़ताल कर रही है।

परिसर में किसी भी प्रकार की काई घटना नहीं हुई, लेकिन पूरी तरह से सतर्क रहने की जरूरत है। एएसपी पूर्वी शिवराम यादव ने बताया कि यह घटना साजिश है या हो सकता है कि किसी की शरारत। इस घटना की पूरी तरह से जांच की जा रही है। मामले की गंभीरता को देखते हुए अधिकारियों को भी सूचना दे दी गई है। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि यदि साजिशकर्ता मकसद में कामयाब हो जाते तो बड़ा हादसा हो सकता था। जिस तरह बड़ी संख्या में बाइकों और कारों का पेट्रोल बहाया गया उससे संदेह और गहरा हो जाता है। आतंकी साजिश को लेकर पहले ही पुलिस अलर्ट है। अस्पताल परिसर में मरीज और तीमारदार मिलाकर हजारों की संख्या में लोग मौजूद थे।

लखनऊ शहर में गोसाईगंज के अकरम, बालागंज के विक्रम, सोनू कृष्णानगर के केसी मिश्रा समेत 100 से अधिक वाहनों से पेट्रोल के पाइप निकले हुए थे। घटना की जानकारी होते ही पुलिस मौके पर पहुंची। और निरीक्षण करके चली गई। इस मामले की जांच करने देर रात तक पुलिस अस्पताल परिसर में ही मौजूद थी। पहले अस्पताल प्रशासन ने पानी के पाइप और बाद में पुलिस ने फायर ब्रिगेड बुलाकर फैला पेट्रोल साफ कराया। पुलिस 5 से 6 गाड़ियों की बात ही स्वीकार कर रही है, लेकिन प्रत्यक्षदर्शियों और मौके का नज़ारा इस दावा को साफ साफ झुठला रहा।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.