भगवान भोले की जय-जयकार और कड़ी सुरक्षा के बीच रविवार को अमरनाथ यात्रा की शुरुआत हो गई। जम्मू के बेस कैंप से भक्तों का पहला जत्था पवित्र गुफा के लिए रवाना हुआ। राज्य के टूरिजम मिनिस्टर नवांग रिगजिन जोरा मुख्यमंत्री के राजनीतिक सलाहकार देवेंद्र राणा ने पहले जत्थे को रवाना किया। इसके बाद जोरा ने रिपोर्टरों से कहा, इस साल की यात्रा शुरू हो गई। हम सभी भक्तों के लिए शांतिपूर्ण यात्रा की कामना करते हैं।

भक्तों का समूह: पहले जत्थे में 2294 लोग हैं। इसमें 1469 पुरुष, 476 महिलाएं, 108 बच्चे और 241 साधु हैं। यह जत्था 69 गाडि़यों के साथ रवाना हुआ जिसमें 51 बसें हैं। यात्रा के लिए 3.5 लाख भक्तों ने रजिस्ट्रेशन कराया है और यह रक्षाबंधन के दिन खत्म होगी।
सिक्युरिटी है टाइट: यात्रा की सिक्युरिटी को ध्यान में रखते हुए सीआरपीएफ ने इस बार कडे़ इंतजाम किए हैं। सीआरपीएफ के एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि इस बार 57 कंपनियां तैनात की गई हैं। इनमें से 12 कंपनियां जम्मू और 45 कंपनियां कश्मीर घाटी में तैनात की गई हैं।
सरकार ने किए इंतजाम: यात्रा की सिक्युरिटी और अन्य पहलुआंे को ध्यान में रखते हुए सरकार ने काफी इंतजाम किए हैं। राज्य के डीजीपी के. राजेंद्र कुमार ने शनिवार को एक हाई लेवल मीटिंग कर सभी तैयारियों का जायजा लिया था। इस दौरान खुफिया विभाग से भी जानकारी इकट्ठा करने को कहा गया।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.