insurance-2इंश्योरेंस रेग्युलेटरी ऐंड डिवेलपमेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया आईआरडीएआई ने एक अक्टूबर से इलेक्ट्रॉनिक इंश्योरेंस अकाउंट रखना अब अनिवार्य कर दिया है। इस अकाउंट को खोलने और ई-पॉलिसी खरीदने के बारे में फ्यूचर जेनराली इंडिया इंश्योरेंस कंपनी के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर ईश्वर नारायणन यहां महत्वपूर्ण जानकारी दिये हैं।

इकनॉमिक टाइम्स के मुताबिक ई-इंश्योरेंस की शुरुआत दो साल पहले ही हुई थी। लेकिन ई-इंश्योरेंस अकाउंट को अभी अनिवार्य किया गया है। इसका मकसद सिर्फ आपके इंश्योरेंस जानकारी संग्रह को कंसॉलिडेट करना और क्लेम का प्रोसेस आसान बनाना है। यह अकाउंट खोलने के लिए कोई अतिरिक्त कॉस्ट नहीं है। अकाउंट खोलने के बाद आपकी सभी इंश्योरेंस पॉलिसीज एक स्थान पर उपलब्ध होंगी। आप क्लेम करने या कोई शिकायत दर्ज कराने के लिए पॉलिसी को कभी भी एक्सेस कर सकते हैं। आपको इसके लिए इंश्योरेंस कंपनी के ऑफिस में खुद जाने की जरूरत नहीं होगी।

शिकायत का निपटारा रिपॉजिटरी की ओर से बनाए गए ग्रिवेंसेज सेल की ओर से किया जाएगा। इस सिस्टम में डेटा भी पूरी तरह गोपनीय रहेगा। इंडस्ट्री के लिए एक बड़ा फायदा केवाईसी का होगा। जिससे एक विश्वसनीय और बड़ा डेटाबेस बनेगा। जिसमें ग्राहक की इंश्योरेंस हिस्ट्री के साथ उसके क्लेम की डिटेल्स भी होंगी।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.