maharashtra-mantralaya-fireमहाराष्ट्र सरकार के दफ्तर में लगी भीषण आग की चपेट में कोई बड़ी जनहानि तो नहीं हुई लेकिन तमाम अहम फाइलें जरूर जलकर राख हो गईं। माना जा रहा है कि देश को झकझोर देने वाले आदर्श घोटाले से जुड़ी अहम फाइलें और दस्तावेज भी इस आग की चपेट में जलकर खाक हो गए हैं। खुद महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने माना है कि इस आग में आदर्श की फाइलें जलकर राख हो सकती हैं। हालांकि सीबीआई के मुताबिक फिलहाल आदर्श की फाइलें सुरक्षित हैं।
पवार ने कहा है कि मंत्रालय में लगी आग में कई अहम फाइलें भी जलकर खाक हो गई हैं। शहरी विकास मंत्रालय में आदर्श घोटाले की फाइलें भी मौजूद थीं। यही वो जगह है जहां आग से सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाया है। ऐसे में इस आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता की आदर्श घोटाले की फाइलें भी जलकर राख बन गई हों।
गौरतलब है कि आदर्श घोटाले में महाराष्ट्र सरकार के कई मंत्री और वरिष्ठ नौकरशाह फंसे हुए हैं। ये सब इस घोटाले की जांच कर रही सीबीआई के रडार पर हैं। ऐसे में अगर आदर्श से जुड़ी फाइलें आग की भेंट चढ़ी होंगी तो ये सीबीआई के लिए तगड़ा झटका होगा। हालांकि खुद सीबीआई का कहना है कि आदर्श घोटाले की फाइलें फिलहाल इस आग से सुरक्षित हैं। सीबीआई का कहना है कि आदर्श से जुड़ी तमाम फाइलें कोर्ट की प्रॉपर्टी हैं और मंत्रालय में लगी आग का इस जांच पर कोई असर नहीं पड़ेगा। आग सबसे पहले मंत्रालय की चौथी मंजिल पर लगी और तेजी से फैलने लगी। इस इमारत में मुख्यमंत्री समेत विभिन्न मंत्रियों के कार्यालय हैं। आग की खबर मिलते ही पूरी इमारत में घबराहट फैल गई। लोग निकल-निकल कर भागने लगे। अभी तक किसी मौत की खबर नहीं है लेकिन 11 लोग जख्मी हुए हैं। खबर यह भी है कि बहुचर्चित आदर्श घोटाले से जुड़ी अहम फाइलें भी इस आग में जल गई हैं। गौरतलब है कि इस घोटाले में कई पूर्व मुख्यमंत्रियों के नाम आरोपियों के रूप में आ रहे थे। कई लोग अंदर फंसे हुए हैं। छठी मंजिल पर कई लोग अंदर फंसे हैं। कई लोग एसी की खिड़कियों से बाहर निकलने की कोशिश करते देखे जा रहे हैं। कुछ लोग मंत्रालय की छत पर भी हैं। उन्हें बचाने की कोशिश जारी है, लेकिन जैसे-जैसे आग फैलती जा रही है, इन लोगों की घबराहट बढ़ती जा रही है। कहा जा रहा है कि अंदर फंसे लोगों की संख्या 30 से भी ज्यादा है। आग पर काबू पाने की कोशिशों के बीच मंत्रालय को जाने वाली सभी प्रमुख सड़कें सील कर दी गई हैं। मुंबई पुलिस कमिश्नर अरूप पटनायक सहित सभी प्रमुख पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे हुए हैं। मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण भी मौके पर हैं और खुद बचाव कार्यों की देखरेख कर रहे हैं। आग लगातार फैलती जा रही है और अंदर फंसे लोगों को बचाना मुश्किल होता जा रहा है। इसी स्थिति में नेवी के विमानों की मदद लेने का फैसला किया गया। कोशिश नेवी के विमानों ने बचाव कार्य शुरू कर दिया है। इमारत के अंदर फंसे सभी लोगों से कहा जा रहा है कि वे छत पर पहुंचें ताकि विमान के जरिए उन्हें इमारत से सुरक्षित निकाला जा सके।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.