दिल्ली –  उत्तर कोरिया ने एक बार फिर बैलेस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया है। गुरुवार को नॉर्थ कोरिया की ओर से आधिकारिक बयान जारी किया गया है जिसमें अंडरवाटर बैलेस्टिक मिसाइल के परीक्षण की जानकारी दी गई है। उत्तर कोरिया की ओर से इस मिसाइल परिक्षण को अमेरिका पर दबाव बनाने का एक हथकंडा बताया जा रहा है। दोनों देशों के बीच हाल ही में बैठक को लेकर सहमति बनी थी।

कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी की रिपोर्ट में कहा गया है कि एकेडमी ऑफ डिफेंस साइंस ने पुकगुकसोंग-3 नाम की नए प्रकार की बैलेस्टिक मिसाइल का वर्टिकल मोड में देश की पूर्वी वोनसान खाड़ी में परीक्षण किया है। प्रक्षेपण से वैज्ञानिक और तकनीकी रूप से नए प्रकार से डिजाइन की गई बैलेस्टिक मिसाइल के सामरिक और तकनीकी सूचकांकों की पुष्टि हुई और इससे पड़ोसी देशों की सुरक्षा पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ा है। नॉर्थ कोरिया की ये SLBM मिसाइल पानी के अंदर से ही करीब 500 किमी. की दूरी तक तबाही मचा सकती है। इतना ही नहीं इसे अगर सटीकता से दागा जाए तो इस दूरी को 1500 किमी. तक बढ़ाया जा सकता है।

यह लॉन्च उत्तर कोरिया के उप विदेश मंत्री चो सन हुई के उस बयान के अगले दिन हुआ है जिसमें उन्होंने कहा था कि प्योंगयांग और वॉशिंगटन इसी सप्ताह बातचीत करने के लिए सहमत हुए हैं। इसके बाद अमेरिका के विदेश विभाग की प्रवक्ता मोर्गन ओर्टागस ने बातचीत की पुष्टि की और कहा कि यह वार्ता अगले सप्ताह होगी। हालांकि, अब जब मिसाइल परीक्षण की बात सामने आई है तो अमेरिका का क्या रुख रहता है इसपर अभी भी नज़रें हैं।

रिपोर्ट – न्यूज नेटवर्क 24 डेस्क

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.